अयोध्या में राम मंदिर की नींव में 200 फीट नीचे डाला जाएगा टाइम कैप्सूल, जानिए इसके बारे में

प्रधानमंंत्री नरेंद्र मोदी अयोध्या में 5 अगस्त को राम मंदिर का शिलान्यास और भूमि पूजन करेंगे। इसके लिए तैयारियां जोरों पर है। अयोध्या नगरी को दुल्हन की तरह सजाया जा रहा है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भूमि पूजन के दौरान मंदिर के गर्भग्रह में चांदी की पांच शिला भी रखेंगे। चालीस किलो वजन की इन शिलाओं के नाम नंदा, भद्रा, जया, रिक्ता और पूर्ना हैं। भूमि पूजन के लिए नदियों का जल और तीर्थस्थलों की  मिट्टी लाने का सिलसिला भी शुरू हो गया है। बताया जा रहा है कि मंदिर नींव में टाइम कैप्सूल भी डाला जाएगा।

200 फीट नीचे डाला जाएगा टाइम कैप्सूल

यह टाइम कैप्सूल मंदिर की नींव में 200 फीट नीचे डाला जाएगा। इसे काल पत्र भी कहा जाता है। इस काल पत्र में जो जानकारी डाली जाएगी, उसे ताम्र पत्र पर लिखकर डाला जाएगा। राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने एक न्यूज चैनल से बातचीत में बताया कि कहीं भी टाइम कैप्सूल डालने का मकसद इतिहास को सुरक्षित रखना होता है। ताकि भविष्य में लोगों को इसके बारे में पूरी जानकारी मिल सके। 

क्या होता है टाइम कैप्सूल 

टाइम कैप्सूल धातु के एक कंटेनर की तरह होता है, जिसे विशिष्ट तरीके से बनाया जाता है। टाइम कैप्सूल हर तरह के मौसम और हर तरह की परिस्थितियों में खुद को सुरक्षित रखने में सक्षम होता है। उसे जमीन के अंदर काफी गहराई में रखा जाता है। काफी गहराई में होने के बावजूद भी न तो उसको कोई नुकसान पहुंचता है, और ना ही वह सड़ता-गलता है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *